Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2019

50 Morning Affirmations in Hindi, Positive Affirmations Hindi

हमारे कार्य  हमारे जीवन को बनाते है, उन कार्यों को नियंत्रित करता है हमारा मन. यदि मन शुध है, तो हमारा जीवन भी शुध होगा.मन के विचारों पर काई सारी चीज़े प्रभाव डालते है,जैसे की दिमाग़ का सेहत , फिज़िकल फिटनेस,खान पान और हमारी मान्यताएं. अफर्मेशन्स का संबंद इसी मान्यताएं  या विश्वास से है. अफर्मेशन्स एक छोटे से वाक़या या स्टेट्मेंट्स होते है जो आपको पॉज़िटिव थिंकिंग करने मे मदद करते है. ये कुछ ऐसे वाक़या होते है, जिसपर आपका मन पहेले विश्वास नही करता,क्यूंकी उसका अर्थ आपके मन के लॉजिक पर खरा नही उतरता.  लेकिन जैसे हम अपनी फिज़िकल बॉडी को ट्रेन कर सकते है वैसे ही अपने मन को भी ट्रेन कर सकते है. जब हम रोज़ इन वाक्यों को दोरहाने लगते है तो धीरे धीरे हमारे सूक्ष्म मन मे इनके अर्ता शामिल होने लगते है. जब भी कोई विचार आपके  सूक्ष्म मन  मे शामिल होता है तो आपका , जागरूक मन भी उसपर बेझीजक यकीन करलेता है. ये बात पॉज़िटिव और नेगेटिव दोनो विचारों केलिए अप्लाइ होता है. जब आप पॉज़िटिव विचारों का प्रॅक्टीस करते है तो रिज़ल्ट पॉज़िटिव ही होता है. बच्चे अपनी मा के हर बात को सही मानते है क्यूंकी उनकी  सूक

50 Morning Affirmations in Hindi, Positive Affirmations Hindi

हमारे कार्य  हमारे जीवन को बनाते है, उन कार्यों को नियंत्रित करता है हमारा मन. यदि मन शुध है, तो हमारा जीवन भी शुध होगा.मन के विचारों पर काई सारी चीज़े प्रभाव डालते है,जैसे की दिमाग़ का सेहत , फिज़िकल फिटनेस,खान पान और हमारी मान्यताएं. अफर्मेशन्स का संबंद इसी मान्यताएं  या विश्वास से है. अफर्मेशन्स एक छोटे से वाक़या या स्टेट्मेंट्स होते है जो आपको पॉज़िटिव थिंकिंग करने मे मदद करते है. ये कुछ ऐसे वाक़या होते है, जिसपर आपका मन पहेले विश्वास नही करता,क्यूंकी उसका अर्थ आपके मन के लॉजिक पर खरा नही उतरता.  लेकिन जैसे हम अपनी फिज़िकल बॉडी को ट्रेन कर सकते है वैसे ही अपने मन को भी ट्रेन कर सकते है. जब हम रोज़ इन वाक्यों को दोरहाने लगते है तो धीरे धीरे हमारे सूक्ष्म मन मे इनके अर्ता शामिल होने लगते है. जब भी कोई विचार आपके  सूक्ष्म मन  मे शामिल होता है तो आपका , जागरूक मन भी उसपर बेझीजक यकीन करलेता है. ये बात पॉज़िटिव और नेगेटिव दोनो विचारों केलिए अप्लाइ होता है. जब आप पॉज़िटिव विचारों का प्रॅक्टीस करते है तो रिज़ल्ट पॉज़िटिव ही होता है. बच्चे अपनी मा के हर बात को सही मानते है क्यूंकी उ