Invictus फिल्म की कहानी | स्टोरी इन हिंदी | Hindi Story

Invictus फिल्म की कहानी | स्टोरी इन हिंदी | Hindi Story 




इन्विक्टस 2009 मे आई अमेरिकन-सौत्फरीकन बाइयोग्रॅफिकल ड्रामा फिल्म है , जो 1995 मे, साउत आफ्रिका मे हुवी रग्बी वर्ल्ड कप मॅच की कहानी कहेती है. कैसे एक स्पोर्ट देश को जोड़ सकता है, कैसे एक स्पोर्ट दुश्मनों का दुश्मनी मिटा सकता है, कैसे एक स्पोर्ट देश की डिप्लोमसी मे काम आसकता है.

साउत आफ्रिका मे अपार्थाइड  यानी रंग भेद 1948 मे अफीशियली शुरू होकर 1990 मे ख़त्म हुवा. साउत आफ्रिका मे इस दौरान वाइट और ब्लैक लोगों केलिए अलग अलग क़ानून थे, काले लोगों का शोषण किया गया था. इसका एक लंबा खूनी इतिहास है. नेल्सन मंडेला ने इसके खिलाफ आंदोलन  किया था इसलिए उनको 1963 मे ज़िंदगी भर केलिए जैल मे डाल दिया गया था.

1980’s  के दशक  मे जब साउत आफ्रिका पर आर्थिक पाबंदियां  लगने लगे तब वहाँ की सरकार  आफ्रिकन नॅशनल कॉंग्रेस (ANC ) से रंग भेद  को ख़त्म कर ने केलिए बातचीत शुरू की. ओलंपिक्स  ने भी 1964 से 1988 तक साउत आफ्रिका को बैन  किया था. ICC  और अन्या काई सारी स्पोर्ट ऑर्गनाइज़ेशन्स ने भी उनको बैन किया था. उनमे से एक था इंटरनॅशनल रग्बी बोर्ड (IRB ) ( अब इसका नाम वर्ल्ड रग्बी है) जिसने भी साउत आफ्रिका को रग्बी वर्ल्ड कप मे खेलने पर बैन  लगाया था.

फिल्म की शुरूवात होती है, 11 फरवरी  1990 को, उस दिन ANC  के नेता नेल्सन मंडेला ( मॉर्गन फ्रीमन) को 27 साल बाद जैल से रिहा किया गया और उनपर लगी सारी आरोपों को भी माफ़ कर दिया गया. उनके रिहा होने के साथ ही ANC  मे सत्ता केलिए आंतरिक लड़ाई शुरू हुवी जिसमे काई सारे लोग मारे गये. मंडेला और साउत आफ्रिकन सरकार के बीच चली चार साल की बातचीत के बाद, मई  1994 मे पहेली बार ब्लैक  लोगों को वोट का अधिकार दिया गया. पहेली बार नेल्सन मंडेला साउत आफ्रिका के एक ब्लैक प्रेसीडेंट बने. 

हॉलीवुड मूवी  इन हिन्दी : उनके सामने चुनौती काई सारी थी, पच्छिम  के सभी देशों ने उनपर आर्थिक पाबंदियां  लगा रखा था. देश मे ग़रीबी, बेरोज़गारी, भुकमरी बहुत जयदा था. सिर्फ  20% वाइट लोग 80% एकॉनमी को कंट्रोल करते थे. सरकार की अफसरषायी मे सिर्फ़ वाइट लोग थे. 1990 से 1994 के बीच के समय मे वहाँ की सरकार ने धीरे धीरे इन असमानता को दूर करने की कोशिश किया था पर सफल नही हुवे थे. 1994 के चुनाव मे ज़्यादातर वाइट लोगों ने वोट भी नही डाला था. वाइट लोगों का मंडेला के प्रति द्वेष का भावना अभी भी हर जगह था.

मंडेला अब पहेले दिन की सुबह , अपनी ऑफीस मे प्रेसीडेंट के तौर पर चार्ज लेने जातें है. न्यूज़ पेपर के हेडलाइन थी  “ मंडेला एलेक्षन जीत सकतें है पर क्या वो सरकार चला सकतें है ? “. ये एक इंपॉर्टेंट सवाल था क्यूंकी मंडेला 27 साल तक जैल मे थे, उन्हे सरकार चलाने का कोई अनुभव नही था. उनके सामने वाइट और ब्लैक लोगों के बीच के दुश्मनी को दूर करके, देश को जोड़ने का एक इंपॉर्टेंट काम था.

पहेले ही दिन उनके ऑफीस मे काम कर रहे काई सारे वाइट अधिकारी अपना सामान बाँधकर जारहे थे. उनको लगता था की मंडेला सिर्फ़ काले लोगों को ही अपने ऑफीस मे काम केलिए रखेंगे. मंडेला उन जाते हुवे अधिकारीयों को रोक  कर कहतें  है की उनका काम देश को जोड़ना है इसलिए यदि कोई वहाँ रुक कर काम करना चाहता है तो उनकी सरकार उन्हे पूरा मौका देगी.

अब मंडेला की सेक्यूरिटी का प्रमुख था जेसन तशबलाला ( टोनी क्गोरोगे) जो की एक ब्लैक था. अब वो और उसकी पूरी ब्लैक सेक्यूरिटी टीम को चार नये ऑफिसर्स को शामिल करने केलिए कहा जाता है जो स्पेशल ब्रांच के वाइट ऑफिसर्स थे.

जेसन को ये बात अच्छी नही लगती और वो मंडेला से जाकर कंप्लेंट करता है की, पोलीस के स्पेशल ब्रांच ने ही , आफ्रिका मे ज़ुल्म बरसाया था. उन्होने काई लोगों की जान लिया था, काई ANC लीडर्स को मरवाया था. जेसन कहेता है की अब ऐसे संस्था से यदि वो सेक्यूरिटी लेते है तो वो, उसके लिए ख़तरा हो सकतें है. मंडेला केहेते है की उन्होने पिछले प्रेसीडेंट को भी सेक़ुरिटी दिया था, उन्हें उनपर भरोसा है, यदि आफ्रिका को जोड़ना है तो उसकी शुरूवात उनके सेक़ुरिटी टीम से ही होगी. जेसन उनसे सहेमात  नही होता पर फिर भी ऑर्डर मानता है.

स्टोरी  इन हिन्दी :  अब वो अपने टीम के सदस्यों को, ब्लैक आंड वाइट को, मंडेला उस महीने जिस जिस से मिलनेवाले थे उसकी शेड्यूल देता है. जिसमे से एक दिन उन्हें, इंग्लेंड और साउत आफ्रिका के बीच होने वाली रग्बी मॅच का उद्घाटन करना था. इस मॅच को लेकर जैसन सब को ज़्यादा अलर्ट रहने केलिए कहेता है. SA मे सिर्फ़ वाइट लोग ही रग्बी का फैन थे और उसे खेलते भी थे. इक्का दुक्का खिलाडी ही ब्लैक वाला होता था, वो भी रंग भेद  ख़त्म होने के बाद शामिल किया गया था. क्रिकेट मे भी यही हाल था.जेसन को लगता है की मंडेला पर मॅच के दौरान वाइट लोगों से हमला होने का चान्स ज़्यादा है .

साउत आफ्रिका का रग्बी टीम का नाम था स्प्रिंग बॉक्स  और उसका कप्तान का नाम था फ्रन्स्ज़ पियेनर (मैट डेमन ). सारे ब्लैक लोग इस टीम से नफ़रत करते थे, उन्हे ये टीम आफ्रिका का नॅशनल टीम नही बल्कि वाइट लोगों का टीम लगता था. इसलिए ब्लैक बच्चे भी इस टीम की जर्सी यदि फ्री मे मिलज़ाय तोभी नही पहेनते थे.

अब मंडेला मॅच का उद्घाटन करने जातें है, सारे वाइट लोग उनके खिलाफ नारे लगतातें है. मॅच मे साउत आफ्रिका की टीम  बुरी तरह हारती है. मंडेला अपनी सेक्रेटरी ब्रेंडा से लोगों के तरफ देखने केलिए कहेटें है, वहाँ आए सारे ब्लैक लोग इंग्लेंड केलिए नारे लगा रहे थे और सारे वाइट लोग आफ्रिका केलिए. जब मंडेला जैल मे थे तब वो भी वैसे ही करते थे. लेकिन अब उनको ही इस दुश्मनी को मिटाना पडरहा था.

मॅच के दौरान उनको पता चलता है की आफ्रिकन स्पोर्ट कमिटी जो अब पूरे तरीके से ANC वर्कर्स से भरा पड़ा था, वो अब स्प्रिंग बॉक्स टीम को ही बैन करने वाले थे. इस्केलिए उन्होने रेज़ल्यूशन भी पास करदिया था. अब मंडेला उस कमिटी के मीटिंग मे जाकर उन्हे अपना फेसला बदलने केलिए केहतें है. मंडेला का कहेना था की स्प्रिंग बॉक्स टीम वाइट लोगों का गौरव का प्रतीक है , यदि वो लोग अपने दुश्मनी मे उसको बैन करदेंगे तो इससे आपसी दुश्मनी और भडेगी.

मांडेला उन लोगों को आपसी दुश्मनी भुलाकर देश के हित केलिए, स्प्रिंग बॉक्स टीम को चालू रखने केलिए माना लेटें है. अगले साल 1995 मे साउत आफ्रिका मे रग्बी वर्ल्ड कप होना था, मंडेला दुनिया को दिखना चाहते थे की सारे साउत आफ्रिकन्स दुश्मनी भूलकर आगे बड़ रहें है. देश को जोड़ने केलिए स्पोर्ट एक अच्छा साधन था. कुछ कंडीशन्स के साथ ANC वर्कर्स मान जातें है.

स्टोरी  इन हिन्दी :  अब मंडेला दुनिया भर मे घूमकर आफ्रिका मे इनवेस्टमेंट करने केलिए इनवएसटेर्स को कहेटें है. उस वक़्त मंडेला की छवि दूसरे गाँधी की तरह होगआई थी. क्यूंकी उन्होने भी गाँधी के प्रिन्सिपल्स को फॉलो करते हुवे रंग भेद को हराया था.

कुछ दिन बाद स्प्रिंग बॉक्स के कॅप्टन फ्रांस्कोइस को मंडेला के ऑफीस से एक फोन कॉल आता है, उसे एक टी मीटिंग केलिए बुलाया गया था. फ्रांसकोइस ने एलेक्षन मे वोट नही दिया था, वो एक नॉन पोलिटिकल खिलाडी था, इसलिए वो मंडेला से मिलने कोलेकर तोड़ा नर्वस था.

मंडेला , फ्रांसकोइस से कहेते है की देश को जोड़ने केलिए उनकी टीम का वर्ल्ड कप मे बेहतरीन प्रदर्शन ज़रूरी है. वो एक विक्टोरियन पोवेम “ इन्विक्टस” की लाइन्स को दोहराकर कहेटें है, उसे और बाकि टीम मेंबर्ज़ को ना सिर्फ़ अपनी टीम केलिए बल्कि पूरे साउत आफ्रिका केलिए खेलना होगा. ये उसकी ड्यूटी है देश के प्रति. मंडेला चाहते थे की रग्बी टीम कड़ी महेनट करें और किसी भी हालत मे वर्ल्ड कप जीतने की कोशिश करे. फ्रांसकोइस भी मंडेला को यकीन दिलाता है की वो अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेगा. अब उनदोनों की फोटो न्यूज़ पेपर मे छपती है.

ANC मे काई सारे उग्र ब्लैक रास्ट्रवादी भी थे जो मंडेला की विचार से सहेमत नही थे. मंडेला और उसका फॅमिली अलग अलग रहेते थे. वो जैल जाने के बाद उनकी वाइफ विनी मंडेला ने ANC  और अपने परिवार को संभाला था. उन्होने भी वाइट पोलीस ऑफिसर्स की क्रूरता को झेला था, वो भी मंडेला की पॉलिसी से सहमत नही थी. मंडेला की बेटी उनको स्प्रिंग बॉक्स से दूर रहने केलिए कहेती है. वोभी ANC के उन उग्र ब्लैक रास्ट्रवादीयों में से एक थी. 

अब ANC के कंडीशन्स के मुताबिक स्प्रिंग बॉक्स के टीम को PR कॅंपेन के तहेट देश भर मे घूमकर ब्लैक बच्चों को रग्बी सीखाना था. स्प्रिंग बॉक्स के काई खिलाड़ियों का मानना था की एक स्पोर्ट मॅच 50 साल के दुश्मनी को नही मिटा सकता. वो नाचते हुवे भी इस काम मे शामिल होतें है. ब्लैक लोग आफ्रिका मे जयदातर स्लम्स मे ही रहेते थे, इन वाइट लोगों ने कभी भी अपनी ज़िंदगी मे ब्लैक लोगों की या बच्चों की ग़रीबी नही देखी थी. ब्लैक बच्चे सिर्फ़ एक ब्लैक प्लेयर चेस्टर के साथ खेलने मे जयदा इच्छुक थे. धीरे धीरे सभी प्लेयर्स उन बच्चों के करीब आने लगतें हैं. इनकी ब्लैक बच्चों को ट्रैनिंग देने की वीडियो को टीवी पर चलाया जाता है.ब्लैक लोग भी अब इन प्लेयर्स की कोशिश को देखकर , धीरे धीरे उनको सपोर्ट करने लगे.

हॉलीवुड मूवी इन हिन्दी : कुछ महीने बाद 1995 मे रग्बी वर्ल्ड कप शुरू होता है. वर्ल्ड कप मे 16 टीम्स थी, 4 ग्रूप्स मे. चोरों मे से एक एक टीम सेमी फाइनल को जाता था और उसमे जीतने वाली टीम फाइनल को. अब फ्रांसकोइस सभी प्लेयर्स को आफ्रिका का नया नॅशनल आंतम जो की पहेले ANC का था उसे प्राक्टिज़ करने केलिए देता है. वो अफ्रीकना ( अफ्रीकना एक भाषा है) मे था इंग्लीश मे नही, कुछ प्लेयर्स सीधे सीधे माना करतें है, कुछ उसका उच्चारण नही कारपाते और कुछ को उसका मतलब समझा मे नही आता. फ्रांसकोइस कहेता है की वो गाना ऑप्षनल है और उसका मतलब है “ आफ्रिका पर भगवान कृपा करे ”.

वर्ल्ड कप  मे उनका पहेला मॅच आर्च राइवल ऑस्ट्रेलिए से था. मंडेला भी अब मॅच से पहेले सभी खिलाड़ियों से मिलकर उन्हे शुभ कामनाए देतें है. मॅच को देखने केलिए कुछ ब्लैक सपोर्टर्स भी आए थे. मॅच मे साउत आफ्रिका के टीम ज़ोर शोर से लड़ती है और ऑस्ट्रेलिया को हरा देती है. सभी प्लेयर्स, मंडेला, उनकी सेक्यूरिटी टीम के मेंबर्ज़ , ब्लैक & वाइट सपोर्टर्स जसन मनाते हाइन. 

अगले मॅच से पहेले फ्रांसकोइस अपने सभी टीम मेंबर्ज़ को लेकर रॉबिन आइलॅंड जाता है, जहाँ पर वो जैल था जिसमे मंडेला ने 27 साल बिताया था. उस जगहा को अब एक म्यूज़ीयम के तौर पर डेवेलप किया गया था. सबी लोगों को ये देखकर हैरानी होती है की कैसे मंडेला ने अपने ज़िंदगी के 27 साल एक 4 फुट के छोटे से रूम मे बितादि. फिर भी उनके मन मे कोई शिकायत नही है. 

एक दिन सुबह की वॉकिंग को जाते समय मंडेला गिर जातें है. डॉक्टर उन्हें स्ट्रिक्ट्ली आराम करने केलिए कहेटें है. स्प्रिंग बॉक्स टीम भी अब लगातार दो मॅच जीत कर सेमी फाइनल पहुँचती है. अब पूरे आफ्रिका मे रग्बी का जोश बड़ने लगा था. सारे ब्लैक लोग भी पूरे जोश से अपने टीम का सपोर्ट करने लगे थे. सेमी फाइनल मे साउत आफ्रिका का मुकाबला फ्रॅन्स के साथ था. बारिश मे भी खेल पूरे ज़ोर से चलता है और आख़िरकार SA जीत जाती है और फाइनल्स को जाती है. 

फाइनल्स मे उनको न्यू ज़ीलैंड  के “ ऑल ब्लैक कॅप्स” के खिलाफ खेलना था, जिसको दुनिया मे रग्बी सूपरपवर टीम के तौर  पेर देखाजाता था. SA ने 1921 के बाद कभी भी न्यू ज़ीलैंड टीम को किसीबी मॅच मे हराया नही था. फाइनल्स मे पहुँचते ही पूरे देश मे एक देशप्रेम की ल़हेर दौड़ने लगती है. सारे ब्लैक और वाइट लोग अपने टीम को सपोर्ट करने लगतें है. काई दशक के बाद साउत आफ्रिकन टीम को रग्बी वर्ल्ड कप मे खेलने दिया गया था. वो पहेले ही चान्स मे फाइनल्स तक गये थे. सभी एक्सपर्ट मानते थे की उनकी टीम उस के लायक नही है पर सबको हैरान करते हुवे सा टीम फाइनल्स तक गयी थी. 

हॉलीवुड मूवी इन हिन्दी : मंडेला के सेक्यूरिटी टीम के ब्लैक लोग भी अब फ्री टाइम मे अपने वाइट फ्रेंड्स के साथ रग्बी खेलने लगे थे. देश मे एक ख़ुसी का महॉल था. फाइनल्स की तैयारी केलिए जेसन सबी मेंबर्ज़ को अलर्ट रहने केलिए कहेता है. 

मॅच शुरू होने से पहेले एक कमर्षियल प्लेन, बिना सेक्यूरिटी के पर्मिशन से स्टेडियम के उपेर से उड़ाता है. उसके विंग्स के नीचे लिखा था “ गुड लक स्प्रिंग बॉक्स ”. 

अब फाइनल्स का मॅच शुरू होता है. मंडेला भी स्प्रिंग बॉक्स का जेर्सी पेहेन कर मॅच का उद्घाटन करतें है. स्टेडियम , नये साउत आफ्रिका के फ्लॅग से भरा पड़ा था. इस मॅच को दुनिया भर मे 100 करोड़ लोग टीवी पर लाइव देखरे थे. अब साउत आफ्रिका का नया राष्ट्रगान बजायाजाता है जो ANC का था. इस राष्ट्रगान को गाने वाले को रंग भेद के टाइम मे जैल भेजा जाता था लेकिन अब इसे ही पूरे विश्वा के सामने, पूरे गौरव से बजाया ज़ारहा था. ANC के काई उग्र नेता भी अब मंडेला की इस कोशिश से खुश थे और उनकी बेटी भी अब उनका सपोर्ट करने लगी थी.  

स्टेडियम  मे बैठे सारे लोग, प्लेयर्स, आम जनता,अफीशियल्स सारे लोग राष्ट्रगान गातें है. देश मे कर्फू जैसा माहौल था, सभी लोग अपने टीवी और रेडियो के सामने बैठे थे. 

स्टोरी  इन हिन्दी : मॅच की शुरूवात ब्लैक कॅप्स के डॅन्स के साथ होता है. मॅच शानदार तरीके से चलता है और अंत मे साउत आफ्रिकन  टीम वर्ल्ड कप जीत जाती है. सभी लोग देश भर मे जस्न मनाने लगतें है. फ्रांसकोइस जीत का श्रेया  मंडेला को, प्लेयर्स को और पूरे 43 मिलियन साउत आफ्रिकन्स को देता है.  

मंडेला और फ्रांसकोइस का उम्मीद सच होता है. एक स्पोर्ट ने देश के आपसी दुश्मनी को कम किया था. फिल्म ब्लैक लोग के जसन के साथ ख़त्म होता है. 

Tags : फिल्म की कहानी ,स्टोरी इन हिंदी,Hindi Story, Hindi spoilers, Hollywood film ki kahani,film ki story.