9/11 movie in hindi | स्टोरी इन हिंदी | हॉलीवुड | हिंदी

9/11 movie in hindi |  स्टोरी इन हिंदी | हॉलीवुड | हिंदी 


फिल्म की  शुरुआत 11 सितंबर 2001 को होती है। अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर अभी भी शान से खड़े थे।  उसी टावर में जफरी केज , नाम का वॉलस्ट्रीट फंड मैनेजर  काम करता था।  उसकी वाइफ थी ईवा। वो दोनों अपनी  डिवोर्स को फाइनल करने के लिए इकट्ठा हुए थे ,अपने सभी लॉयर्स के साथ।



 जाफरी डिवोर्स देना नहीं चाहता था पर उसकी पत्नी ईवा , डाइवोर्स चाहती थी। क्यूंकि जेफरी  हमेशा पैसों  के पीछे भाग रहा था और अपने परिवार को बहुत टाइम नहीं दे रहा था। जाफरी  कहता है कि वह आखिरी बार समझौता करने के लिए ईवा , से  बात करना चाहता है। दोनों पक्ष के लॉयर्स उस पर राज़ी होते है और उन्हें कुछ टाइम देतीं है। अब जाफरी और ईवा लिफ्ट से बिल्डिंग से बाहर जाने लगते हैं।


माइकल नामक एक आदमी एक कुरियर कंपनी में काम करता था। आज उसकी बेटी की जन्मदिन था , वह और उसकी पत्नी उनके बेटी की जन्मदिन को अच्छी तरह से सेलिब्रेट करते हैं। अब माइकल एक लेटर को डिलीवर करने के लिए वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के  उसी लिफ्ट में चढ़ता है जहां पर जाफरी और ईवा थे।  उसी लिफ्ट में एक और लड़की भी  जिसका नाम टीना  था,  जो अपने बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप करने के लिए आई थी।


बिल्डिंग के लिफ्ट के ऑपरेटिंग रूम में ऑपरेटर मेट्ज़ी , आज अपनी ड्यूटी के लिए सुबह सुबह आती है । उसका सुपरवाइजर एंडरसन भी ड्यूटी पर  था।  सीनियर  मैनटेंनेंस वर्कर, एड्डी  भी आया था।  आज सुबह सुबह उसे एक फ्लोर से शिकायत आई थी कि वहां कुछ सफाई की जरुरत  है।  अब उसे ठीक करने के लिए लिफ्ट में जाता है , 35th  फ्लोर तक  एक लिफ्ट में जाता है, बाद में उसी  लिफ्ट मे आता  है जिस पर, जाफरी  और ईवा थी। 

11 सितंबर 2001 की सुबह को लोग अपने काम से आ रहे थे और सब कुछ नॉर्मल था। 

उस दिन सुबह  8:46  को बिल्डिंग में एक बहुत बड़ा धमाका होता है। सॉरी बिल्डिंग हिलने लगती है,  लिफ्ट ऑपरेटर मेट्ज़ी  को पता नहीं चलता कि आखिर क्या हुआ। सारे लिफ्ट्स  एकदम बंद होते हैं , उस बिल्डिंग में 99 लिफ्ट  थी , सारे एकदम से बंद होते है।  हर एक लिफ्ट में सीसीटीवी कैमरा रखा गया था वो सीसीटीवी कैमरा भी काम करना बंद करते हैं। ऑपरेटर को समझ में नहीं आता कि क्या हो रहा है।  उसका सुपरवाइजर एंडरसन आता  है और देखता है कि सब कुछ खराब हो गया है, वह बाहर  देखने जाता है,  कि क्या हुआ है। 

11 सितंबर 2001 की सुबह को एक पैसेंजर एयरलाइन, वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के नॉर्थ टावर पर  क्रश करता  है। सऊदी अरेबिया के कुछ आतंकवादियों ने एक कमर्शियल एयरलाइंस को हाईजैक करके वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर  उसे क्रैश  किया था। यह एक आतंकवादी हमला था।  इसकी  खबर को  मीडिया अब टीवी पर चलाती है। सभी लोग, फायर डिपार्टमेंट , पुलिस,  लोगों को बचाने के लिए दौड़ कर आतें  है। उनको अभी तक मालूम नहीं था कि यह एक आतंकवादी हमला है वो लोग मान रहे थे कि एक साधारण  छोटी प्राइवेट  प्लेन है, जिसका  एक्सीडेंट हुवा है।  

इधर लिफ्ट में लोग फंस गए थे।  लिफ्ट के अंदर के लोगों को कुछ भी आईडिया नहीं था कि आखिर क्या हुआ  है।  सभी लोग घबरातें है , बाद में  एक दूसरे को अपना इंट्रोडक्शन देते है।  टीना कहती है कि उसे क्लस्ट्रोफोबिया है , यानी छोटी जगहों में बहुत समय तक वो नहीं  रह सकती उसका तबीयत खराब होने लगता है। वो अपनी  एंग्जायटी  को कम करने के लिए मेडिसिन  लेती है।  जाफरी और एडी लिफ्ट के दरवाजे को खोलने की कोशिश करते हैं, पर दरवाजा खुलता नहीं है , क्योंकि वह  लॉक होगया था। एड्डी  कहता है कि यह नहीं लिफ्ट है , इन्हें इसीलिए लगाए गए था  ताकि जब भी कोई एक्सीडेंट हो तो  अंदर रहने वाले लोग अंदर ही रहे और बाहर जाने की कोशिश ना करें। मदद का इंतज़ार करें। अब सभी लोग इंतज़ार करने लगते हैं। 


कुछ देर बाद फायर फाइटर्स आते हैं और  मेट्ज़ी  से पूछते हैं कि ऊपर के फ्लोर को  जाने के लिए कौन सी लिफ्ट  है।  बिल्डिंग के 90th  के ऊपर का हिस्सा आग से जल रहा था। मेट्ज़ी कहती है कि सब लिफ्ट बंद है कोई भी चालू नहीं है ,उन लोगों को चल कर जाना होगा। 90 फ्लोर चढ़ने के लिए फायर फाइटर्स को लगभग डेढ़ घंटा लगने वाला था क्योंकि वह लोग अपने शरीर के ऊपर  10 किलो का सामान लेकर चलते थे और इतनी ऊपर की चढ़ाई आसान बात नहीं थी । पर फिर भी वह लोग चढ़ाने  लगते है।  शहर के सभी फायर डिपार्टमेंट के लोग,  पुलिस ऑफिसर वहां आने लगते हैं, लोगों की मदद केलिए। 


लिफ्ट में आप सभी लोग अपना मोबाइल फोन इस्तेमाल करने के लिए जाते हैं। पर सभी का नेटवर्क जाम हो चुका होता है। अब लेफ्ट में ही  ईवा , जाफरी से  डिवोर्स पेपर पर साइन करने के लिए कहती है।  जाफरी  उस पर थोड़ा गुस्सा होता है और कहता है तुम्हें यहां पर इस हालत में  डिवोर्स  लेना  है?  सभी लोग अपने बैकग्राउंड के बारे में बताते हैं , माइकल कहता है कि आज उसकी बेटी की बर्थडे है।  एड्डी पोर्टोरिकन था , वो अपनी अपनी बीवी के बारे में बताता है। टीना  ज्यादा कुछ नहीं बताती।


कुछ देर बाद लिफ्ट के माइक्रोफोन पर मेट्ज़ी  का आवाज सुनाई देता है।  एड्डी  मेट्ज़ी  से कहता है उसकी आवाज सुनकर उसे  बहुत अच्छा लगा ,वह  नाराज़ होकर पूछता है कि क्या हो रहा है?  वो लोग लिफ्ट में  फंस गए हैं। मेट्ज़ी कहती है कि तुम्हें यकीन नहीं होगा एक बेवकूफ पायलट ने एक छोटी सी प्राइवेट जेट को  बिल्डिंग में क्रश कर दिया है।  बिल्डिंग  को बहुत नुकसान हुआ है और हर जगह आग लगी हुई है।


एड्डी  कोई सुनकर शौक लगता है वह पूछता है कि वो बाहर कैसे आएंगे ? उन्हें कोई बचाने आ रहा है ? वो लोग 37  या 38th फ्लोर पर हैं।  मेट्ज़ी कहती है कि फायर फाइटर आए हैं। पर अभी सारी  99 लिफ्ट  बंद पड़े हैं। इसलिए उनको चल कर जाना पड़ रहा है। इसलिए उन तक पहुंचने में थोड़ा टाइम लगेगा।   इंतज़ार करने केलिए केहेती है। 


कुछ देर बाद अपर वाली फ्लोर के आग का  धुवाँ  निचे आने लगता है। सभी लोगों को सांस लेने में परेशानी होने लगती है।


लगभग 50 मिनट बाद लाइव टीवी पर एक और प्लेन  वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के साउथ टावर से  टकराती है। इस घटना को सारे लोग लाइव टीवी पर देखते हैं। मेट्ज़ी भी देखती है और देखकर घबरा जाती है।  अब  टीवी पर कहा जाता है कि यह कोई एक्सीडेंट नहीं है बल्कि एक आतंकवादी घटना है। अब लिफ्ट ऑपरेटिंग रूम के सभी लोग जल्दी से जल्दी लिफ्ट में फंसे लोगों को बचाने के लिए जुड़ जातें  है।


कुछ देर बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज  बुश , भी टीवी पर इस घटना में शहीद हुए लोगों के लिए अपनी संवेदना व्यक्त करते हैं और कहते हैं कि अमेरिका इस दुर्घटना से ऊपर आएगा। वो दो मिनट  का मौन प्रकट करते है।  


इसी बीच लिफ्ट में ईवा का फोन रिंग करने लगती है , उसे उसकी मां का फोन आया था। वो  उसकी मां से कहती है कि वह ठीक है और जेफरी  के साथ नॉर्थ टावर  के एक लिफ्ट में  फ़ासी है। उसकी मां को ये सुनकर शॉक लगता है और वो रोने लगाती है।  ईवा और जेफरी अब अपने बेटे से बात करते हैं। ईवा अब उसकी मां से एक पेपर और पेन लेने केलिए कहती है ,और कुछ नंबर  लिखने केलिए भी केहेती है।  एड्डी  और माइकल दोनों अपने अपने घर की  नंबर बताते हैं।  वह उन दोनों की पत्नियों को खबर देने केलिए केहेती है। टीना  किसी का भी नंबर नहीं देती। अब ईवा डर कर रोने लगाती है , जाफरी उसे संभालता है। 


अब एड्डी , मेट्ज़ी को  कनेक्ट कर पूछता है कि क्या हो रहा है? मेट्ज़ी इस बार घबराकर कहती है कि एक दूसरे प्लेन ने दूसरे टॉवर पर अटैक किया है। यह  एक आतंकवादी हमला है। मेट्ज़ी अब  सभी लोगों को जल्द से जल्द लिफ्ट से बाहर आने के लिए कहती है। एड्डी  पूछता है कि उसका सुपरवाइजर किधर है?मेट्ज़ी बोलती है कि वह पहले अटैक के बाद से नहीं दिखा। एड्डी  केहता है कि उसके ऑफिस में एक मेन्यूल है और उसके  अंदर लिखा है कि इसको कैसे खोलते हैं।  उसके ऑफिस में जा कर उस मैन्युअल  को पढ़ने के लिए कहता है।


अब मेट्ज़ी ऑफिस में जाकर मैन्युअल को ढूंढने लगती है। उसे वहां मैन्युअल मिल जाता है। अब वह उसे  पड़ती है और इंस्ट्रक्शंस को एड्डी  को बताती है। वह कहती है कि लिफ्ट के बाहर लेफ्ट साइड में एक लॉक  है। यदि वह उसे खोलेगा तो लिफ्ट का दरवाज़ा खुल जाएगा। अब सभी लोग उसको खोलने  लगते हैं ,  पहले वह लिफ्ट के दरवाजे को थोड़ा सा खोल के उसके बीच में  एक बैग को रखते हैं,  ताकि लिफ्ट खुला ही रहे, उसके बाद माइकल और जेफरी , एड्डी  को  उठाते हैं। एड्डी  स्क्रुड्राइवर से उसको खोलने लगता है।  कुछ देर नाकाम कोशिश के बाद अंततः खोलता  है।


एड्डी  हथौड़े से लेफ्ट के सामने वाले दरवाजे को तोड़ने करता है।  वह दीवार प्लास्टिक शीट से बना था ना की इट और सीमेंट से, इसलिए जल्दी टूटने लगता है। कुछ देर तोड़ने के बाद उसमें बड़ा छेद  होता है। उस छेद से पहले ईवा जाती है।  


जैसे ही वह बाहर निकलती है, लेफ्ट ऊपर से टूटने लगता है।  उसका एक रस्सी टूट जाता है, इससे  दूसरे लोगों का  बाहर जाना संभव नहीं होता। जाफरी ,ईवा से कहता है कि वो नीचे जाए और मदद लेकर आए। जाफरी कहता है कि वह हमेशा उससे प्यार करता था और हमेशा करता रहेगा। वो केहेता है की वो  डिवोर्स देना नहीं चाहता। ईवा रोने लगती है। अब लिफ्ट  की रस्सी एक एक करके टूटने लगाती है।  लिफ्ट धीरे-धीरे नीचे आने लगता है। 


अब  सभी लोग लिफ्ट के फर्श पर सो जाते हैं ताकि यदि लिफ्ट नीचे गिरी है तो उन्हें कम से कम चोट लगे।  1945  में एम्पायर  बिल्डिंग में एक महिला ऐसे ही निचे सोकर बची थी।  अब अचानक लिफ्ट  निचे गिराने लगता है , लिफ्ट के अंडर के लोग बिना ग्रेविटी के उड़ने लगते हैं।  कुछ देर बाद लिफ्ट धड़ाम करके निचे गिरता है। 


मेट्ज़ी टीवी पर , अमेरिकन आर्मी के मुख्यालय पेंटागन पर भी हुवी प्लान अटैक को देखती है।  कुछ देर बाद साउथ टावर पूरी तरीके से निचे गिरता है।  अब मेट्ज़ी , अपने परिवार के बारें में सोचकर वहां से चली जाती है।  


ईवा अब ग्राउंड फ्लोर पर  आती है। हर जगह धुंआ था। कोई दिखाई नहीं दे रहा था। सुबह के 10:00 बजे सूरज भी नहीं दिख रहा था। उतना सारा धुंवा था। वो फायर   फाइटर  से मदद के लिए पूछती है,  पर कोई नहीं आता , अंत में एक फायर फाइटर आता है। वो और ईवा , एक-एक करके हर एक लिफ्ट के बाहर आवाज लगातें  है। एक लिफ्ट के अंदर एक बुजुर्ग आदमी था उसकी भी जान भी  बजाते हैं।


अंत में वह जाफरी की लिफ्ट को  पहुंचते हैं।  वह थोड़ा अटक गया था। फायर फाइटर अपनी बड़ी सी इंस्ट्रूमेंट के सहारे उसे खोलता है। एक एक करके  माइकल ,टीना और एड्डी  बाहर निकालतें  है।  जैसे ही जाफरी  की बारी आती है। लेफ्ट का दरवाज़ा अटका कर बंद होता है , सिर्फ एक छोटी सी छेद बचती है। ईवा उसी में से जेफरी को देखकर रोने लगाती है। वह जफरी को छोड़कर जाना नहीं चाहती थी। इसलिए जाफरी  माइकल से कहता है  वह ईवा को पकड़ कर वहां से भाग जाए। माइकल भी उसकी जान बचाने के लिए  जेफरी को शुक्रिया कहता है और ईवा को जबरदस्ती पकड़कर वहां से भाग जाता है।  


फायर फाइटर ईवा से प्रॉमिस करता है कि वह  जाफरी  जान बचाएगा।  अब वह लिफ्ट के ऊपर जाकर ऊपर से जाफरी को बाहर निकालने की कोशिश करता है। तभी पूरा का पूरा बिल्डिंग नीचे गिरने लगता है और वह दोनों वही मर जातें हैं। 


फिल्म की कहानी समाप्त होती है। 11 सितंबर 2001 को लगभग 3000 लोग अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में मर गए थे। ये अब तक की सबसे खतरनाक आतंकवादी हमला था। 

Tags : 9/11 movie, फिल्म की कहानी ,स्टोरी इन हिंदी,Hindi Story, Hindi spoilers, Hollywood film ki kahani,film ki story.